जिम्मेदारी ले story in hindi / jimmedari le hindi story

           जिम्मेदारी ले story in hindi

पास में दो परिवार रहते थे। एक परिवार लगातार लड़ाई कर रहता था जबकि दूसरा चुपचाप और मिलनसार रहता था। एक दिन, पड़ोसी परिवार इतना अच्छा कैसे रहता है,  दूसरा परिवार  इससे जलन महसूस करता तह।  पत्नी ने अपने पति को बोला कि वह अपने  पड़ोसि को देखें  कि वो इतने खुशहाल कैसे रहते हैं।

पति गया, छिप गया और देखने लगा। उसने पड़ोसी महिला को देखा जो फर्श की सफाई कर रही थी। अचानक किसी चीज़ के लिए  वह रसोई में चली  गई। उस समय, उसका पति कमरे में चला आया। पति का पैर बाल्टी में टकरा गया और पानी फर्श पर फैल गया।

Story in hindi for students

उसकी पत्नी रसोई से वापस आई और पति से कहा … मुझे क्षमा करें, शायद! यह मेरी गलती है। मैंने बाल्टी को रास्ते से नहीं हटाया।

पति ने जवाब दिया … नहीं, मुझे खेद है ! यह मेरी गलती है, क्योंकि मैंने इसे नोटिस नहीं किया कि मेरा पैर बाल्टी में टकरा जायेगा ।

वह आदमी घर लौट आया और उसकी पत्नी ने उससे पूछा कि क्या उसे पता चला कि उनका रहस्य क्या है।

मुझे लगता है कि अंतर यह है कि हम हमेशा सही होना चाहते हैं, जबकि वे अपने हिस्से की जिम्मेदारी लेना चाहते हैं।

 Moral of story :-शांतिपूर्ण संबंधों का मतलब है कि हमारे अपने हिस्से की व्यक्तिगत जिम्मेदारी लेना।

ये पॉपुलर कहानियाँ भी पढ़े

1. सोच
2.कोरा ज्ञान
3.पाँच बातें
4.two moral stories
5. Story in hindi एक बूढ़ा


story in hindi.

         

Inspirational stories in hindi.. पसंद आई हो । तो शेयर जरूर करे । यदि आपके पास भी ऐसी hindi story with moral , motivational आर्टिकल हो तो हमें [email protected] पर भेजे हम आपके नाम और फोटो के साथ publish करेंगे। धन्यवाद !

   

       

Leave a Reply

Your email address will not be published.