हरिवंश राय प्रसिद्घ कविता जो बीत गयी सो बात गई

जीवन में एक सितारा था माना वह बेहद प्यारा था वह डूब गया तो डूब गया अंबर के आंगन को देखो कितने इसके तारे टूटे कितने इसके प्यारे छूटे जो छूट गए फिर कहाँ मिले पर बोलो टूटे तारों पर कब अंबर शोक मनाता है जो बीत गई सो बात गई जीवन में वह था …

हरिवंश राय प्रसिद्घ कविता जो बीत गयी सो बात गई Read More »