Hindi short moral story

  Hindi short moral story

एक बार, एक किसान था जो नियमित रूप से एक holtel वाले को मक्खन बेचता था। एक दिन, होटल वाले व्यक्ति ने मक्खन का वजन करने का फैसला किया, यह देखने के लिए कि क्या वह उस किसान से उतना ही मक्खन को प्राप्त कर रहा है जो उसने माँगा था। उसे पता चला कि किसान निर्धारित मक्खन से कम मक्खन दे रहा था, इसलिए वह किसान को अदालत में ले गया।

Story in hindi for students

न्यायाधीश ने किसान से पूछा कि क्या वह मक्खन को तौलने के लिए क्या उपयोग  करता है। किसान ने उत्तर दिया, ‘जज साहब, मैं एक गरीब आदिम हूं। मेरे पास एक उचित  पैमाना तो नहीं है, लेकिन मेरे पास एक पैमाना है। ‘

जज ने जवाब दिया, “फिर आप मक्खन का वजन कैसे करते हैं?”

किसान ने उत्तर दिया; “जज साहब, जब से होटल वाले ने मुझसे मक्खन खरीदना शुरू किया, बहुत समय से मैं उससे एक पाउंड की रोटी खरीद रहा हूँ। हर दिन, जब होटल वाले से रोटी लाता हूँ, तो मैं इस रोटी के  वजन के बराबर मक्खन का वजन इस होटल वाले को देता हूँ पैमाने पर डालता हूं। अगर किसी को दोषी ठहराया जाना है, तो इस होटल को। क्योंकि मक्खन का वजन रोटी के से ही मापता हूँ यदि मक्खन का वजन कम है तो इसका सीधा मतलब है कि ये जो रोटी मुझे देता है उसका वजन भी कम होगा।

Moral of story:- जीव में, आपको वही मिलता है जो आप देते हैं। दूसरों को धोखा देने की कोशिश न करें। ”

ये पॉपुलर कहानियाँ भी पढ़े

1. सोच
2.कोरा ज्ञान
3.पाँच बातें
4.two moral stories
5. Story in hindi एक बूढ़ा


story in hindi.

         

Inspirational stories in hindi.. पसंद आई हो । तो शेयर जरूर करे । यदि आपके पास भी ऐसी hindi story with moral , motivational आर्टिकल हो तो हमें [email protected] पर भेजे हम आपके नाम और फोटो के साथ publish करेंगे। धन्यवाद !

   

       

Leave a Comment

Your email address will not be published.